श्री हनुमान अंबलाम, आलत्तियूर, मल्लापुरम, केरला

श्री एम पी शेखरन, त्रिचूर

 

भारतीय चिकित्सा पद्धति - आयुर्वेद
शारीरिक और मानसिक दोनों को अच्छा स्वास्थ्य प्रदान करने के लिए आयुर्वेद विभिन्न उपचार विधिया प्रदान करता है। आयुर्वेद में उपचार 'त्रिदोष' सिद्धांत पर आधारित हैं। 'त्रिदोष' सिद्धांत के अनुसार बीमारी शरीर के तीन तत्वों जैसे वात (वायु), पित (गर्मी) और कफ (पानी) के असंतुलन के कारण होती है। आयुर्वेद इन तीन तत्वों को संतुलित करने के लिए उपचारात्मक दवाओं का सुझाव देता है


ऐसा माना जाता है कि इस प्राचीन चिकित्सा विज्ञान को इस देश में धनवन्त्री लाये जिन्हे भगवान विष्णु के अवतार के रूप में माना जाता है और आयुर्वेद के संरक्षक देवता के रुप् मै पूजा की जाती है। ऐसा कहा जाता है कि उन्होने इस देश में सर्जरी की शुरूआत की। आयुर्वेद पर उनके कई कामों ने पूरे देश में इस विज्ञान के प्रसार में मदद की।


केरल और आयुर्वेद
वर्तमान समय में आयुर्वेद की सोचे तो कोई केरल के बारे में सोचने से बच नहीं सकता। वाग्भदान आयुर्वेद के स्वामी और 12 वीं शताब्दी के संस्कृत के विद्वान है जो इस विज्ञान को केरल के लिए लाये थे। केरल के वाग्भदान ने 'अष्टांग आयुर्वेद' के नाम से जाने वाली परंपरा कायम की।


केरल के अष्ट वैद्य
अष्टांग आयुर्वेद का पालन और अभ्यास उन आठ परिवारों द्वारा प्रचारित किया गया जो बाद में 'अष्ट वैद्य' के नाम से जाने लगे। इन आठ परिवारों में आलत्तियूर नंबी, पुलामन्तोल मोसु, पाज़नीलिपपुराथु तैयकाटु मोसु, कुट्टंचेरी मोसु, वयस्करा मोसु, वेल्लाड मोसु, और चेरट्टमण मोसु शामिल हैं। अब सात अष्टा वैद्य परिवार अस्तित्व में हैं।


श्री आलत्तियूर नंबी और श्री हनुमान
अष्ट वैद्य में से एक आलत्तियूर नंबी है वो आलत्तियूर तिरूर के निकट मल्लापुरम जिले के निवासी है। ऐसा कहा जाता है कि आलत्तियूर नंबी को स्वर्ग के आयुर्वेद के वैद्य जुड़वा आस्विन देवों का और उनके कुलदेवताओं का आशीर्वाद मिला हे। आलत्तियूर नंबी के कुलदेवता, आलत्तियूर के भगवान हनुमान हैं, जिन्होंने लक्ष्मण को जीवित् करने के लिए हिमालय से जड़ी बूटियों को लंका में लाये थे। यह ज्ञात है कि भगवान हनुमान को 'सर्व रोग हरन ' नाम दिया गया है, जिसका अर्थ है कि सभी रोगों के मरहम लगाने वाले और 'लक्ष्मण प्रान दाता' का अर्थ जीवन दाता है। एक चिकित्सक के लिए सबसे अच्छा मार्गदर्शक माना जाता है।


आलत्तियूर का श्रीराम मन्दिर
मंदिर मल्लापुरम जिले केरल में तिरूर के पास आलत्तियूर में स्थित है। मल्लापुरम जिले में मंदिर को 'पेरुमथ्रिककोविल' के रूप में जाना जाता है। यह मंदिर आलत्तियूर ग्राम नंबूदिरी द्वारा संचालित किया गया था। बाद में इसे वेटाथ राजा ने कब्जा कर लिया था। इसके बाद कोझिकोड के ज़मोरीन राजा ने मंदिर के प्रबंधन को संभाला था। केरल सरकार देवस्वम बोर्ड के गठन के बाद मंदिर का प्रबंधन देवस्वम बोर्ड को दिया गया है। यह माना जाता है कि इस मंदिर में भगवान हनुमान की मूर्ति की स्थापना ऋषि वशिष्ठ के द्वारा किया गया था।


मंदिर का महत्व
मंदिर 'केरल अम्मलम' वास्तुकला में बनाया गया है। यहां मुख्य अभयारण्य में भगवान श्रीराम को उनके चेहरे पर एक अजीब अभिव्यक्ति के साथ देखा जाता है और उनके साथ माता सीता को नही देखा जाता है। यहां भगवान श्रीराम को माता सीता के रावण के जबरन हर्न के बाद यहां दिखाया गया है। भगवान श्रीराम की मुख्य मूर्ति को देखा जाता है कि वह श्री हनुमान को श्री सीता के बारे में संदेश दे रहे थे श्री हनुमान को श्री सीता का पता लगाने के लिए जाने से पह्ले। इस क्षेत्र के श्रीराम विग्रह (मूर्ति) के चेहरे पर इस तरह की अजीब अभिव्यक्ति को देखा जा सकता है।


श्री हनुमान का मंदिर श्रीराम के मुख्य मंदिर से जुड़ा हुआ है। मुख्य अभयारण्य में भगवान हनुमान अपने स्वामी के शब्दों को सुनने के लिए हाथ में एक गदा के साथ आगे झुके हुए दिखाई देते हैं। उनका मुख दक्षिण कि ओर है यह बहुत दुर्लभ है या कोई भी कह सकता हे कि आप हनुमान को दक्षिण की ओर कहि और देख सकते हैं।


श्री लक्ष्मण मंदिर मुख्य मंदिर से कुछ मीटर दूर के स्थित है और यह माना जाता है कि श्री लक्ष्मण श्रीराम और श्री हनुमान के बीच गोपनीय बात सुनने से बचने के लिए दूर रह रहे थे।


अंजनेय [हनुमान] मंदिर का महत्व
यह कहा जाता है कि इस मंदिर में भगवान हनुमान के विग्रह (मूर्ति) के पवित्रा (स्थापना) ऋषि वशिष्ठ के अलावा किसी अन्य ने नहीं किया गया था। यहां भगवान हनुमान को श्रीराम के श्री सीता के लिये दूत के रूप में देखा जाता है, जिन्होंने जीवत्मा के साथ परमात्मा को एकीकृत किया है।


माँ सीता की तलाश में लंका जाने से पहले, भगवान हनुमान अपने साथी वनारों को इस प्रकार बताते हैं


यथा राघवनिर्मुक्तः शरः श्वसनविक्रमः |
गच्चेत्तद्वद्गमिष्यामि लङ्कां रावणपालिताम् || ५-१-३९


(जैसा कि भगवान राम द्वारा भेजा गया तीर, हवा की तरह तेज गति से यात्रा करता है, मैं रावण के द्वारा शासित लंका मे घुसूगा।) इस मंदिर में भगवान हनुमान की मुख्य मूर्ति महाकवि वाल्मिकी द्वारा उल्लेखित रूप वर्णन को दर्शाती है।


यहां एक मंच है जिस पर से श्री हनुमान ने लंका के लिए की छलांग लगाई थी ।


इस मंच के एक छोर पर एक लंबा ग्रेनाइट पत्थर है और यह समुद्र का प्रतीक है इस लंबी पत्थर पर भक्त आते हैं और छलांग लगाते हैं। ऐसा करने से, शुभ परिणाम होने की संभावना है विशेष रूप से बच्चों की बेहतर स्वास्थ्य और जीवन के लिए।


प्रसाद
इस मंदिर में भगवान हनुमान की मुख्य प्रसाद 'पोथी एविल' प्रसिद्ध है। 'पोथी एविल' का 'प्रसाद' सौ नारियल, सौ माप चिड़वा, 28 किलोग्राम गुड़, 12 किलो शकर [देशि], 750 ग्राम सोंठ, 800 ग्राम जीरा का बना होता है। इन सभी सामग्रियों को 'पोथी एविल' बनाने के लिए मिलाया जाता है।


मंदिर का नवीनीकरण
प्रसिद्ध ज्योतिषियों की सलाह पर जैसे मन्नपुज़हा रामन नंबूदिरी, परपांगाडी, उन्नीकृष्ण पनीकर और तनूर प्रेमन पनीकर ने मंदिर का नवीनीकरण किया था। अच्छे वास्तुशिल्प वज़हापराम ब्रह्मादट्टान नंबूदिरी और कानिपय्यूर उनी नंबूदिरी ने लगभग 90 लाख रुपये की अनुमानित लागत पर पुनर्निर्माण की और मरम्मत कार्य किया गया हैं।




|| सीतापति रामचन्द्र की जै। पवन सुत हनुमान कि जै। ||



अनुभव
केरल और तमिलनाडु से सभी भक्त भगवान का आशीर्वाद पाने के लिए मंदिर में इकट्ठा होते है। इस क्षेत्र के भगवान, 'सर्व ऱोग हरन', 'लक्ष्मण प्रान दाता' और 'अष्टवैद्य' में से एक का मार्गदर्शन करने वाला हमारे लिए अच्छे स्वास्थ्य और दीर्घायु प्रदान करने के लिए तैयार है।

 

 

 

तुम्हरे भजन राम को पावै। जनम जनम के दुख बिसरावै ॥

 

ed : August 2017