श्री बीचुपल्लि हनुमत्सुप्रभातम्

तेलकपल्लि राम्चन्द्र शास्त्रि

 

बीचुपल्लि हनुमत्सुप्रभातम्

छन्दो मयाय जागतीहसमस्तलोक
चैतन्य दाय मिहिराय यधाविधानम्
संध्यार्घ्या दान कुतुकसतवरते द्विजाली
र्निद्राम् जहिह्यतुल विक्रम वायुसूनो

पारावतास्सबलि भुक्चट कारुवन्ति
नीडान्विहाय बहिरेत्यच ताम्र चूडा:
जाता विधोर्विरहतोद्य निशाविविरणा
निद्राम जहीहि हनुमन्स्सुजनार्घ लब्ध्यै

उदयनरवि स्स्वघ्रणि भार जतद्रुूतेन
लिम्पन्नीलातल मिवस्ति गवाम समूह:
अम्भार वेण निजवात्स गाणप्रबोधम्
बाडंकरोति कपिवर्य ! जहिहिनिद्राम्

श्रीजानकी हृद्य शोक तम प्रदीप
कळ्याण रूप ! कलवाक्कविकल्पवृक्ष !
अत्यत्भुतात्म बल तीर्ण महासमुद्र !
श्री बीचुपल्लि हनुमन तव सुप्रभातम्

आकाशसिन्धु गिरिदुर्ग वनेषुधीर
स्तवैरनचरन तवपितुस्सादृशो भवस्त्वं
मातृप्रसिद्धिकर मङ्गळ नामधेय !
श्री बीचुपल्लि हनुमन तव सुप्रभातम्

दैतेय दुष्ट मृग सम्हति पूर्णघोर
लङ्काटवी दहन दाव कपीटयोने !
सुग्रीव मुख्य कपिसन्नुत भव्यकॆर्ते !
श्री बीचुपल्लि हनुमन तव सुप्रभातम्

श्री राम चन्द्र हृदयाब्ज्चलन्मिळिन्द
गन्धर्व किन्नर समाहनुतप्रताप
दैतेय नाथ शकन्धर गर्वहारिन
श्री बीचुपल्लि हनुमन तव सुप्रभातम्

लङ्काप्रवेश कृत्भीकर मेघनाथ
निर्विण्ण कम्पित समस्त सुरारिवर्ग
शान्तस्वरूप ! शरनागत रक्षणेच्छ
श्री बीचुपल्लि हनुमन तव सुप्रभातम्

लङ्काप्रयणा समये खगतिं कपीन्द्र !
त्वाम्मेनिरेदि विषदो विनतातनूजं !
केचिच्छ्दैत्य कुलनाशक धूमकेतुं
श्री बीचुपल्लि हनुमन तव सुप्रभातम्

मध्येब्धि गतिनिरोध कृतेह्य मर्त्यै
सम्प्रेषितांच सुरसां विव्र्तास्य भीमा
धून्वंत दीहित करोवियतं प्रयात !
श्री बीचुपल्लि हनुमन तव सुप्रभातम्

सत्यस्वरूप भगवन्नव शब्द्शास्त्र
पांडित्य पूर्ण ! पवनात्मज ! रामदूत !
रामानुजप्रिय कवीन्द्र चकोर चन्द्र !
श्री बीचुपल्लि हनुमन तव सुप्रभातम्

गर्वोद्धतासुर निकाय मदेभसिंह !
श्रीरामचन्द्रवर लब्ध महाप्रभाव
लोकेzत्र सर्वजनता कृतनित्यपूज !
श्री बीचुपल्लि हनुमन तव सुप्रभातम्

तैलप्रसिक्त पटवेष्टित तावकीन
वालाग्रदैत्य विनिवेशित वह्न्यभीत
ल्कांदहन प्रलयकाल धनंजzयोभू:
श्श्रीबीचुपल्लि हनुमन तव सुप्रभातम्

अत्युन्नताद्रि समभीकर सिम्हिकाया :
क्षुद्भाधयातव तनुग्र्सनेरताया :
छित्वाशरीरममरैर्विनुतो सितस्या
श्री बीचुपल्लि हनुमन तव सुप्रभातम्

लंकाभियायि वियदध्वज खेदहारि
मैनाकगोत्र विहितार्घ विशेषतुष्ट
सीतागवेषण समर्पितकायश्क्ते
श्री बीचुपल्लि हनुमन तव सुप्रभातम्

लंकागतावनिसुतात्त वियोग दु:खं
रामाभिधान कलितज्वल दूर्मिकाया:
दानान्निवार्य सफलीकृत रामकार्य
श्री बीचुपल्लि हनुमन तव सुप्रभातम्

त्वत्पाद पूजननिरस्त समस्त दु:खा
स्त्वन्नामसंस्मृति पलाइत भूतबाधा:
सज्जावसन्ति सुजनास्तव पूजनाय
श्री बीचुपल्लि हनुमन तव सुप्रभातम्

शीतावियोगज तमोविभुराघवस्य
चूडा मणिंतरणि कांति शपत्विषुतम
दत्वानिवार्य जगतिप्रधितो सितस्मै
श्री बीचुपल्लि हनुमन तव सुप्रभातम्


 

 

 

तुम्हरे भजन राम को पावै। जनम जनम के दुख बिसरावै ॥