श्री व्यासराजा प्रतिष्ठित हनुमान
वीर मंगला हनुमान मंदिर, नल्लतूर, तमिलनाडु

जी के कोशिक

 

नल्लतूर गांव और श्री व्यासराज स्वामीगल
श्री श्री व्यासराज स्वामीगल
प्रभु वीर मंगला हनुमान मंदिर नल्लतूर गांव में, तालुका तिरुत्तनी,जिला तिरूवळ्ळूर, तमिलनाडु में कुसास्थलाइ नदी के तट पर स्थित है। इष्टदेव वीर हनुमान, बाल हनुमान के रूप में है। इन्हे लोक प्रियसे ’बाल हनुमान’ का नाम्से जाने जाते हैं। यह कहा जाता है कि संत श्री व्यासराज स्वामीजी जॊ विजयनगर साम्राज्य के सम्राट श्रीकृष्णदेवरयर के रजगुरु थे,ये मंदिर 15 वीं सदी के दौरान बनाया गया है। यह कहा जाता है, कि संत श्री व्यासराज स्वामीजी अपने व्यास पूजा और चर्तुमास व्रत अनुष्टान करने के लिए तिरुपति जा रहे थे, लेकिन वो कुसास्थली नदी में बाढ के कारण, नदी पार नहीं कर सके। और दिव्य निर्देश से, श्री व्यासराज स्वामीजी ने नल्लतूर गांव में कुसास्थली नदी के तट पर वीर हनुमान शिल्पा स्थापित की। अन्यथा उनकी उसे तिरुपति में स्थापित करने की योजना थी। ऐसा कहा जाता है कि इस महान संत ने सात सौ बत्तीस हनुमान मंदिरों का निर्माण किया है।


इष्टदेव भगवान वीर हनुमान हैं, फिर भी वो, लोकप्रिय नाम बाल हनुमान से भी जाने जाते हैं, क्योंकि उनके मुख के हाव-भाव एक छोटे बच्चे से लगते हैं। यहाँ वीर हनुमान उत्तर दिशा में तिरुपति की ओर चलते हुए दिखाई देते हैं, जहां प्रभु श्री वेंकटेश्वर [श्री बालाजी] का निवास स्थल है।


भगवान श्री वीर हनुमान
श्री वीर मंगला हनुमान, नल्लतूर, तमिलनाडु
प्रभु वीर हनुमानजी को, दाहिनी हाथ की हथेली में कमल की पंखुड़ियों के साथ, 'अभय मुद्रा' में दर्शाया गया है, तथा बायाँ हाथ सीने के पास कमल की कली पकड़े हुए है। कमल ज्ञान,ऐश्वर्या, और विजय का प्रतीक माना जाता है, तथा देवी सरस्वती, लक्ष्मी और दुर्गा का प्रतिनिधित्व भी करता है।


एक ब्रह्मचारी के सर्वश्रेष्ठ आभूषण के रूप में, लंबे बालों का बंधा हुआ एक गुच्छा है और उन्होंने अपने लंबे माथे पर वैश्नव प्रतीक ऊर्ध्वपुण्ड्र धारन किया है। उनके नेत्र एक सुनहरे रंग के रूप में है। इस पिङ्गनेत्र के माध्यम से भक्तों को कटाक्षः प्रदान करते है। जिस तरह विष्णु के नरसिंह अवतार में लंबे तेज दांत थे, उसी तरह यहाँ बाल हनुमान के भी लंबे नुकीले दांत हैं।


उनके लंबे कान हमेशा रामकथा को सुनने को तत्पर, और कानों में कुंडल रूप में पंचमुखी बाली पहने हैं। गले में माला भी पह्ने हुए हैं। वो, सामान्य रूप से नेपाल में ही पाया जाने वाला, दुर्लभ सालिगराम पत्थर से बनी एक माला पह्ने हुए हैं। उनकी दोनॊ बाहें बाजूबंद के साथ सजी हैं, तथा कलाईयों में कड़े पह्ने हुए हैं। अपने कूल्हे पर एक चाकू और कमर के चारों ओर बड़ी कमरबंद पह्ने हुए है। उनके कमल समान पै्रों में दो विभिन्न प्रकार की पायल (नूपूर और थन्दै) पह्ने हुए हैं।


मंदिर परिसर
यह मंदिर कुसास्थली नदी के तट पर, शांत वातावरण में स्थित है। तिरुत्तानी से आते हुए, नदी पर पुल से पहले ही बाईं ओर एक बड़ा मेहराब मंदिर के लिए तुम्हें आमंत्रित करेगा।


श्री  योग हनुमान, नल्लतूर, तमिलनाडु
भगवान योग हनुमान की विशाल प्रतिमा सीमेंट और मोर्टर से बनी, पीछे की ओर नारियल के पेड़ों का समुह आंख को अत्यंत भायेगा। आप मेहराब से होते हुए, नदी के साथ-साथ लंबे मार्ग के बाद, मुख्य मंदिर में प्रवेश करेगें। मंदिर परिसर में भगवान वीर हनुमान, भगवान राम, भगवान विनायक, और नवग्रह के लिए अलग-अलग जगह स्थापना की गई है।


प्रभु वीर हनुमान का मंदिर एक स्तही विमान है। विमान के दक्षिणी ओर योग हनुमानजी शंख चक्र और माला के साथ हैं। पूर्व की ओर भक्त हनुमान हैं। विमान के पश्चिमी ओर पाँच मुख और दस हाथों वाले पंचमुखी हनुमान हैं। विमान के उत्तर की ओर वीर हनुमान दाहिने हाथ को आकाश की ओर उठाये हुए, और बायाँ हाथ उनकी कमर पर है।


भगवान राम का मंदिर एक दो स्तरीय विमान है और मंदिर में भगवान राम अनुज लक्ष्मण, पत्नी श्री सीता के साथ उनके परम भक्त श्री हनुमानजी अंजली हस्त-मुद्रा में हैं।


मंदिर में भगवान विनायक एकस्तरीय विमान में रखे हैं।


नवग्रह अपने अलग मंदिर में, वाहनों के साथ स्थापित हैं।


श्री वीर हनुमान भक्त समाज द्वारा, पंचरत्न अगमा नियमों के अनुसार, भगवान वीर हनुमानजी की मूर्ति को पुनः स्थापित करने के बाद 7 जुलाई 1998 को, महाकुम्भाभिषेक किया गया था।


अनुभव
इस क्षेत्र के बाल हनुमानजी अपनी सुनहरी आंखों से, कटाक्षं के रूप में भक्तों को आशीर्वाद देने के लिए इंतज़ार कर रहे हैं। आइये हम प्रभु के दर्शन पाकर, धन्य हों।

 

 

 

तुम्हरे भजन राम को पावै। जनम जनम के दुख बिसरावै ॥

 

ed : january 2015